हमारी new video देखे

Tuesday, 12 October 2021

C language क्या हैं। Introduction of C Language in hindi.

हेलो दोस्तों तो कैसे हैं, आप लोग। दोस्तों आज के समय में कंप्यूटर का कितना ज्यादा उपयोग किया जा रहा है, यह तो हम सबको पता ही है। आज के इस टेक्नोलॉजी के समय में हर किसी की चाहत होती है, की वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बने। तो किसी का हैकर बनने का सपना है, तो किसी को कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर बनना है। वह यह सब करके अपना करियर बनाना चाहते हैं। जिससे उन्हें पैसे के साथ-साथ नाम भी मिले।

दोस्तों सॉफ्टवेयर या हार्डवेयर इंजीनियर या हैकर बनने के लिए आपको कोडिंग को knowledge होना बहुत जरूरी है। आज के समय में कोडिंग से संबंधित बहुत सारी लैंग्वेज होती है, जैसे कि C++, Java, C, Python आदि। आपको इन सब लैंग्वेज के बारे में जानकारी होगी, तो आप आसानी से कोडिंग सीख सकते हैं। लेकिन दोस्तों इन सब में से सबसे पहले आपको C langauge आना जरूरी है। क्योंकि अगर अपने C language सीख ली तो आप आसानी से बाकी लैंग्वेज को भी सीख सकते हैं।

दोस्तों अगर आपके मन में भी सवाल है, C Language क्या है, किसी भी लैंग्वेज से पहले C langauge को क्यों सीखें, C language क्यों जरूरी है। तो हम आपको इस आर्टिकल में C language की जानकारी देंगे। इसलिए आप हमारे साथ अंत तक बने रहे। तो चलिए शुरू करते हैं।

C प्रोग्रामिंग लेंग्वेज क्या हैं। (what is c programming language in hindi) -

C एक general purpose high level programming या procedural programming language है। जिसे Dennis Ritchie के द्वारा 1972/1973 में develop किया गया था। इसका उपयोग application और firmware को develop करने के लिए किया जाता है। इसे ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रोग्राम को लिखने के लिए सिस्टम प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के तौर पर डिजाइन किया गया था। इसकी पहली application Unix operating system थी। जिसे दोबारा लिखने के लिए C को डेवलप किया गया था।


C language एक सिंपल लैंग्वेज है। जिसके द्वारा ज्यादातर methematical program लिखे जाते हैं।


C language के मुख्य फीचर में low-level access to memory, simple set of keyword और clean style समाहित है। इन फीचर्स की वजह से ही C language operating system डेवलपमेंट के लिए एक suitable लैंग्वेज है। C के बाद develop की गई लैंग्वेज C language का ही syntax/features का उपयोग करती है। जैसे- java script, PHP, Java आदि। ऐसे बहुत सारे प्रोग्राम हे जो C में compile होते हैं, लेकिन C++ मैं नहीं।

अगर हम आसान शब्दों में कहें तो यह एक कंप्यूटर की भाषा या कोडिंग है, जिसका उपयोग करके कंप्यूटर समझ पाता है, हम उसे क्या कमांड या निर्देश दे रहे हैं।

C Programming Language क्यों सीखें। -

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज C बहुत ही ज्यादा पॉपुलर है। इसका इस्तेमाल आज के समय में बहुत सारे सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए किया जाता है। यह एक बहुत ही सरल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज मानी जाती है। अगर आपने C लैंग्वेज को सीख लिया है, तो आप बाकी लैंग्वेज को भी आसानी से सीख सकते हैं। C लैंग्वेज को mother language भी कहा जाता है। क्योंकि C के बाद जो भी लैंग्वेज बनाई गई है, उन सब में C language का concept उपयोग किया गया है। इसलिए ज्यादातर C लैंग्वेज सीखने के लिए कहा जाता है।

C प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के फीचर्स -

(•) यह एक procedural language होती है। क्योंकि इसमें predefind instructions की list को step by step follow किया जाता है।


(•) C मैं एक निश्चित संख्या में keywords होते हैं। जिनमें control primitives का सैट if,while, for, switch आदि हैं।


(•) C Program बहुत fast होता है।


(•) C में कई logical और methematical operators होते है।


(•) C मे एक single statement में कई सारे assignments को apply किया जा सकता हैं।


(•) C में functions की return values की हमेशा जरूरत नहीं होती हैं।


(•) C बहुत पुरानी language हैं, लेकिन फिर भी इसका उपयोग बहुत सारी applications में किया जाता है। चाहे वह photo editing software हो या फिर system programing.


(•) C Program बहुत ही portable होते हैं।

Advantage of C language -

(•) C एक सिंपल लैंग्वेज है। जिसका उपयोग हम आसानी से कर सकते हैं। इसमें लिखा गया कोड (Code) बहुत फास्ट होता है।


(•) C लैंग्वेज में हम functions बना सकते हैं। तथा अपने कोड को अच्छे से मैनेज भी कर सकते हैं।


(•) यह एक structured programing language है।


(•) Assembly Language के बाद सबसे फास्ट C लैंग्वेज को ही माना जाता है। इसलिए यह बहुत फास्ट है। तथा इसमें create की गई एप्लीकेशन की प्रोसेसिंग बहुत फास्ट होती है।


(•) यह एक middle level language है। जो high level और low level की एप्लीकेशन बनाने में सक्षम है।


(•) C में C32 reserved  के द्वारा कुछ ऐसी keyword provide की गई है, जिसका उपयोग किसी अन्य उद्देश्य के लिए नहीं किया जा सकता है।

Disadvantage of C language - 

(•) C लैंग्वेज object oriented programming को support नहीं करती है।


(•) C लैंग्वेज में run time checking नहीं होती हैं।


(•) C लैंग्वेज में exceptions को run time में handle नहीं किया जा सकता हैं।


(•) C लैंग्वेज किसी भी variable के type को identify करने में सक्षम नहीं होती है।


(•) C लैंग्वेज में re-usability support नही करती हैं।

Professional Language के रूप में C का उपयोग क्यों किया जाता है। -

(•) यह एक बेसिक लैंग्वेज (Basic Language) है। इसे सीखना बहुत ही आसान होता है।


(•) यह बहुत आसानी से low-level-language को हैंडल कर सकती है।


(•) C लैंग्वेज सीखने के बाद हम आसानी से सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर दोनों बना सकते हैं।


(•) इसका उपयोग करके बहुत ही efficient programs लिखा जा सकता है। 


(•) C लैंग्वेज एक हाई लेवल लैंग्वेज है।


(•) C लैंग्वेज को बहुत सारे computer platforms मैं compile किया जा सकता है।


(•) यह लैंग्वेज बहुत ही structured होती है।


(•) C लैंग्वेज सीख लेने पर हमें दूसरी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने में कोई प्रॉब्लम नहीं होती है।

C लैंग्वेज के version (versions of C language in hindi)-

C langauge को Dennis Ritchie द्वारा develop किया गया था। अब तक C लैंग्वेज के कई सारे version आ चुके हैं। जिन्हें हम नीचे बता रहे हैं।

(•) K & R - यह C लैंग्वेज का original language है। इस version में standard I/O library जैसी function मौजूद थी।


(•) ANSI C AND ISO C -  इस version को ANSI (American National Standards Institute) और ISO (International Organization For Standardization) के द्वारा 1988/1990 में publish किया गया था।


(•) C99 - इसे 1999 में लॉन्च किया गया था। इस version में कुछ नये feature जैसे inline functions, serveral new data types और long int आदि को Add किया गया था।


(•) C11 -  इस version को 2011 में लॉन्च किया गया था। और इसमें library, including type generic macros, anonymous structures जैसे feature को Add किया गया था।


(•) C18 - इसे 2018 में publish किया गया था।

C लैंग्वेज के बारे में रोचक तथ्य - 

(•) आज के समय में C सबसे ज्यादा पॉपुलर और उपयोग किए जाने वाला सिस्टम प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है।


(•) इसे American National Standard Institute के द्वारा 1988 में formalized किया गया।


(•) इसे Unix (UNIX) operating system को लिखने के लिए develop किया गया था।


(•) आज के समय में सबसे पॉपुलर Linux OS और RDBMS MYSQL C में लिखे गए हैं।


(•) ज्यादातर state-of-the-art software को C मैं ही implement किया गया है।


(•) UNIX OS को C मैं ही लिखा गया है।

C का उपयोग कहा-कहा किया जाता है -

C लैंग्वेज का उपयोग बहुत सारी जगह पर किया जाता है। 

Operating system, Language Compilers, Text Editors, Network Drivers, Data Bases, Assemblers, Print Spoilers, Modern Programs, Language Interpreters, Utilities, etc.

तो दोस्तो यह थी C Language के बारे में जानकारी। अब तो आप समझ ही गए होंगे C language किसे कहते है। और इसका use कहा किया जाता है। हम उम्मीद करते है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी।

Conclusion -

आज इस पोस्ट में हमने आपको C language किसे कहते है।तथा यह क्या है। इसके उपयोग के बारे में आपको पूरी जानकारी दी है। में आशा करता हु की आप लोगो को C language किसे कहते है। और इसे सीखने के क्या फायदे है। इसके बारे में अच्छे से समझ आया होगा। अगर यदि आपको अभी भी इस पोस्ट को लेकर कुछ डाउट्स है, या फिर हमारी इस पोस्ट में कुछ सुधार करने की जरूरत है, तो आप हमे नीचे comments करके जरूर बताये।

ओर यदि आपको हमारी पोस्ट C language क्या है। हिंदी में अच्छी लगी हो ओर आपको इससे कुछ सीखने का मिला हो तो हमे comments करके आप जरूर बताए। ओर इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ whatsapp group , facebook ओर अन्य social networks site's पर शेयर करे और इस जानकारी को अन्य लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे।

अभी के लिए बस इतना ही। हमारी इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। आपका दिन शुभ हो।



No comments:

Post a Comment