हमारी new video देखे

Monday, 12 July 2021

साउंड कार्ड क्या है। इसका उपयोग कहा किया जाता हैं। in hindi.

हैलो दोस्तो तो कैसे है, आप लोग। क्या आप जानते हैं साउंड कार्ड क्या है। अगर आप नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं आज हम आपको इस पोस्ट में साउंड कार्ड की जानकारी देंगे। और यह कैसे कार्य करता है इसके बारे में बताएंगे।


साउंड कार्ड एक expansion card या IC होता है। जिसका कार्य sound को बाहर निकालना या पैदा करना होता है। इसे sound board या audio card भी कहा जाता है। अक्सर हम sound को किसी कंप्यूटर में speaker की सहायता से तथा स्मार्टफोन में मोबाइल की सहायता से सुनते हैं। क्या आपने कभी सोचा है आखिर यह sound कहां से आता है। आज के समय में हर इंसान किसी ना किसी डिवाइस के माध्यम से songs सुनता है। और अपना मनोरंजन कर पाता है। पहले के समय में sound card को अलग से लगाना पड़ता था। लेकिन आज के समय में यह motherboard में या फिर Exapnsion slot मैं पहले से ही लगा होता है। इसलिए इसे अब अलग से लगाने की कोई जरूरत नहीं पड़ती है। आज के समय में हर कंप्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन में साउंड कार्ड लगा होता है। जो इन्हें और आसान बनाता है। 
अगर आप भी साउंड कार्ड के बारे में पूरी जानकारी जानने के इच्छुक हैं तो आपको हमारी इस पोस्ट को शुरू से अंत तक पूरा पढ़ना चाहिए। जिससे आपको सारे डाउट्स भी दूर हो जाएंगे। और आपको भी साउंड कार्ड के बारे में बहुत कुछ जानकारी प्राप्त हो जाएगी। तो चलिए अब बिना देर किए शुरू करते हैं साउंड कार्ड किसे कहते हैं।

साउंड कार्ड क्या है। (what is sound card in hindi) -

sound card kya hai

साउंड कार्ड एक एक्सपेंशन कार्ड या इंटीग्रेटेड सर्किट होता है। जो किसी भी कंप्यूटर में आवाज या साउंड को उत्पन्न करने के लिए लगाया जाता है।
sound card kya hai

यह कंप्यूटर का एक component होता है जो कि कंप्यूटर के भीतर स्थित होता है। यह कंप्यूटर को audio input और output capabilities प्रदान करता है। एक साउंड कार्ड कंप्यूटर के डिजिटल डाटा को साउंड में बदलता है। जिससे आप अपने कंप्यूटर में हेडफोन और speakers के द्वारा म्यूजिक या वीडियो की आवाज को सुन पाते हैं। बिना साउंड कार्ड के आप कोई भी ऑडियो या वीडियो को नहीं सुन पाएंगे। इसलिए इंटरनल या External sound card लगाना बहुत ही आवश्यक है। साउंड कार्ड की सहायता से हम एनालॉग सिग्नल को डिजिटल सिग्नल में बदल कर कंप्यूटर को समझ सकते हैं। और कंप्यूटर के डिजिटल सिग्नल को वापस एनालॉग में बदल कर हम सुन सकते हैं। ज्यादातर साउंड कार्ड में कम से कम एक analog line input ओर एक stereo line output connection तो होता ही है।
कुछ sound card digital audio input and output को भी support करते हैं। इसके लिए एक standard TRS connection या via एक optical audio port से करते हैं।

कंप्यूटर से स्पीकरों को जोड़ना हो या फिर माइक को जोड़ना हो सभी के लिए sound port की जरूरत होती है। तथा यह साउंड पोर्ट आपको कंप्यूटर की सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU) में मिलेगी। अभी के समय में जो मदरबोर्ड आ रहे हैं उनमें साउंड पोर्ट इनबिल्ड होते हैं।

साउंड कार्ड डाटा को साउंड वेब्स में बदल देता है। जो आपके computer आउटपुट से जुड़ कर आपके कानों तक पहुंचती है।
Sound card के कई प्रकार होते हैं। कोई type जो analog output को produce करती है उनमें एक digital-to-analog converter होना बहुत जरूरी होता है। यह outgoing signal को digital से analog मैं कन्वर्ट करती है। जिन्हें ज्यादातर speaker systems से play किया जा सकता है। वह sound card जो analog input को सपोर्ट करते हैं उन्हें भी एक analog-to-digital converter (APC) की जरूरत होती है। यह incoming analog signal को digitizes करती है। ताकि computer उन्हें आसानी से प्रोसेस कर सकें।

कुछ कंप्यूटर में जहां पर sound cards motherboard का एक हिस्सा होता है वहीं दूसरी मशीनों में यह एक actual card होता है। जो कि PCI Slot में स्थित होता है। अगर आपको भी अपने कंप्यूटर में और ज्यादा ऑडियो capabilities चाहिए तो उसके लिए आपको अपने कमरे में एक नया sound card install करना होगा। अब आप यह तो जान ही गए हैं साउंड कार्ड किसे कहते हैं। अब हम यह जानेंगे साउंड कार्ड कैसे कार्य करता है।

साउंड कार्ड कैसे कार्य करता है। -

sound card kese kam karta hai

कंप्यूटर सिस्टम में उपयोग होने वाले ज्यादातर साउंडकार्ड digital-to-analog converter नामक तकनीक का प्रयोग करते हैं। जिसकी सहायता से यह digital data को analog formate से रिकॉर्ड कर सकते हैं। और उसे उत्पन्न कर सकते हैं। तथा इसमें आउटपुट सिग्नल एक बाहरी डिवाइस हेडफोन या एमप्लीफायर से सुनाई देता है। जो कि एक TRS फोन कनेक्टर या RCA कनेक्टर से जोड़ा हुआ होता है।

जो साउंड कार्ड ज्यादा एडवांस होते हैं वह एक से ज्यादा साउंड चिपों का प्रयोग करते हैं। जिसकी वजह से इनकी Data Rate high रहती है। तथा यह एक साथ कई सारे function को करने में सहायक होते हैं। यह कार्ड processor का बहुत कम समय तक प्रयोग करते हैं। और साउंड को synthesize करके म्यूजिक और साउंड इफेक्ट को Real Time में generate करते हैं। इसमें डिजिटल साउंड रिप्रेजेंटेशन का कार्य मल्टी चैनल DCA के द्वारा पूरा होता है। इसकी वजह से एक समय में डिजिटल सेम्पलिंग का कार्य सरलता से हो जाता है। और आप Real Time प्रभावो के साथ filltering का काम भी कर सकते हैं।

साउंड कार्ड के प्रकार -

वैसे साउंड कार्ड के बहुत से प्रकार मौजूद होते हैं। लेकिन हम यहां पर आपको महत्वपूर्ण sound card के बारे में जानकारी देंगे।

(●) Motherboard Sound Card -

यह साउंड कार्ड कंप्यूटर या लैपटॉप के अंदर पहले से ही मदरबोर्ड के साथ लगा हुआ आता है। और बाहर की और आपको सिर्फ इसकी पोर्ट देखने को मिलेगी। जहां पर आप स्पीकर्स और माइक को कनेक्ट कर सकते हैं।
Computer sound technology की शुरुआत में miniaturization technology ने computer में sound produce इस्तेमाल करने के लिए कंप्यूटर Hardware manufacturers को enable किया। जिससे कि साउंड को बस एक single chip या card में तैयार किया जा सके। आज के समय में ऐसा कोई सा भी कंप्यूटर देखने को नहीं मिलता है जिसके अंदर motherboard sound card ना लगा हो। अगर आपके कंप्यूटर के motherboard backplane में दूसरे expansion ports जैसे - USB port के साथ audio jacks लगा है तो फिर आपके कंप्यूटर में एक motherboard sound card मौजूद है।

(●) External Sound Card -

एक्सटर्नल साउंड कार्ड हमारे कंप्यूटर और लेपटॉप में किसी खास वजह से ही लगाया जाता है। जैसे अगर किसी कंप्यूटर या लैपटॉप में इंटरनल साउंड कार्ड खराब हो गया हो या वह सही से काम ना कर रहा हो तब हमें इस स्थिति में एक्सटर्नल साउंड कार्ड की आवश्यकता होती है। लेकिन कंप्यूटर या लैपटॉप में ऐसी कुछ खास डिवाइस भी होती है जिनके लिए हमें एक्सटर्नल साउंड कार्ड की जरूरत होती है। एक्सटर्नल साउंड कार्ड हमारे कंप्यूटर में USB के द्वारा आसानी से कनेक्ट हो जाता है।

(●) Standard Sound Card -

यह एक Expansion Card होता है जो हमारे कंप्यूटर के अंदर एक slots के साथ connect होता है। यह main processor के ऊपर बहुत ही कम load उत्पन्न करती है। जिससे आपको game खेलते वक्त अच्छी performance प्राप्त होती है। कुछ स्टैंडर्ड साउंड कार्ड के पास ऐसे features होते हैं जो आपको motherboard sound cards में कभी देखने को नहीं मिलेंगे। जैसे कि Multiple Channel Surround Sound या 24-bit recording

साउंड कार्ड के भाग -

ज्यादातर मदरबोर्ड के ऊपर एक साउंड कार्ड लगा होता है। जो किसी सामान्य कार्य को करने के लिए सक्षम होता है। तथा उच्च गुणवत्ता वाले कार्यों को करने के लिए यूजर अलग से साउंड कार्ड का उपयोग करते हैं। हम आपको यहां पर साउंड कार्य के मुख्य भागों के बारे में बताएंगे।

(●) Digital-To-Analog Converter - यह डिजिटल डाटा को analog sound में बदलता है। sound card के digital audio सेक्शन में 16 बीट का digital-to-analog और analog-to-digital कनवर्टर लगा होता है। तथा साथ में प्रोग्रामेबल सैंपल रेट जनरेटर भी लगा होता है। कंप्यूटर इस कनवर्टर के द्वारा सैंपल डाटा को पड़ता है। और सैंपल रेट जनरेटर  कनवर्टर को चलाता है। और यह सब कंप्यूटर के द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

(●) analog-to-digital converter - यह analog sound input को digitalrecording मैं बदल देता है।

(●) Input And Output कनेक्टर - इसकी सहायता से हेडफोन, स्पीकर को कंप्यूटर से जोड़ सकते हैं। माइक्रोफोन और स्पीकर पहले से ही कंप्यूटर में जुड़े हुए हो सकते हैं।लेकिन यदि इसमें कनेक्टर लगे हुए हो तो इससे किसी बाहरी डिवाइस को भी जोड़ सकते है।

(●) One Enterface - यह साउंड कार्ड को motherboard से जोड़ता है। इसके लिए ज्यादातर पेरिफेरल कंपोनेंट इंटर कनेक्ट का उपयोग किया जाता है।

वॉइस ओर चैनल (voice and channel) -

(●) Voice - वॉइस का मतलब होता है कि कितनी तरह का साउंड जो किन-किन स्त्रोत से आते हैं। एक साउंड कार्ड में से। जब भी हमारा कंप्यूटर लॉग इन करते ही ध्वनि निकलता है और ई-मेल आते ही आवाज निकलती है यह सभी इसी की वजह से संभव हो पाता है। Hardware और Software sourees से manufacturers हमारे sound card को बहुत से voice प्रदान करते हैं। इन्हें इस्तेमाल करने के लिए। क्योंकि साउंड कार्ड का इस्तेमाल करके electronic music पैदा की जा सकती है। पहला जो काम साउंड कार्ड का होता है वह electronic म्यूजिक को निकालना होता है। पहले के साउंड कार्ड में 9 से 18 वॉइस ही होती थी। लेकिन अभी वर्तमान में इनकी संख्या बढ़कर 64 हो गई है जो कि Software की मदद से 32 व Hardware की मदद से 32 हो गई है। आज के समय के साउंड कार्ड Hardware  से ज्यादा Software पर काम करते हैं। तथा देखते है कि सॉफ्टवेयर की मदद से कितनी तरह की आवाजे निकाली जा सकती है।

(●) Channels -  कभी-कभी तो लोग voice ओर channel को एक ही मानते हैं। यह माना जाता है कि sound card कितनी तरह के audio output निकालता है। आजके के स्टीरियो चैनल दो प्रकार के होते हैं। इनमें 2.1 से सबवूफर होता है। तथा 5.1 में आसपास का साउंड भी होता है। तथा 7.1 का बेहतरीन साउंड होता है। हमारे लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बात यह होती है कि हमारा साउंड कार्ड ज्यादा से ज्यादा ऑडियो सिस्टम से जुड़ पाए।

साउंड कार्ड के उपयोग -

साउंड कार्ड का उपयोग कई क्षेत्रों में किया जाता है।
(●) गेम्स खेलने के लिए साउंड कार्ड का उपयोग किया जाता है। क्योंकि बिना साउंड कार्ड के गेम खेलने में वह मजा नहीं आता है जो sound के साथ आता है।
(●) अगर आपको कहा जाए कि आप बिना sound के मूवी देखो तो कैसा लगेगा। फिर आपका मूवी देखना बेकार है। इसलिए मूवी देखने में इसका उपयोग किया जाता है।
(●) शिक्षा से संबंधित जितने भी सॉफ्टवेयर होते हैं उन सब में sound card का उपयोग किया जाता है।
(●) म्यूजिक को सुनने के लिए sound card का उपयोग किया जाता है।
(●) अगर आप एक बिजनेसमैन हो तो फिर आपने देखा होगा कि किसी भी प्रकार का प्रजेंटेशन देने के लिए sound card का उपयोग किया जाता है।
(●) किसी आवाज को पहचानने के लिए भी sound card का उपयोग किया जाता है।

Conclusion -

आज इस पोस्ट में हमने आपको sound card क्या है। तथा यह कितने प्रकार के होते है। तथा यह कैसे कार्य करते है इसके बारे में आपको पूरी जानकारी दी है। में आशा करता हु की आप लोगो को Sound Card क्या है। इसके बारे में अच्छे से समझ आया होगा। अगर यदि आपको अभी भी इस पोस्ट को लेकर कुछ डाउट्स है या आप हमारी इस पोस्ट से असंतुष्ट है। या फिर हमारी इस पोस्ट में कुछ सुधार करने की जरूरत है या इस पोस्ट से जुड़ा कोई भी सवाल आपके मन मे है तो आप हमे नीचे comments करके जरूर बताये।

ओर यदि आपको हमारी पोस्ट Sound Card क्या है। हिंदी में अच्छी लगी हो ओर आपको इससे कुछ सीखने का मिला हो तो हमे comments करके आप जरूर बताए। ओर इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ whatsapp group , facebook ओर अन्य social networks site's पर शेयर करे। और इस जानकारी को अन्य लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे।

अभी के लिए बस इतना ही। हमारी इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। आपका दिन शुभ हो।






No comments:

Post a Comment