हमारी new video देखे

Saturday, 25 July 2020

लोकल एरिया नेटवर्क (LAN) किसे कहते है। व इसके फायदे ओर नुकसान।

हेलो दोस्तों तो कैसे है, आप लोग। क्या आप जानते हैं LAN (Local Area Network) किसे कहते हैं। अगर नहीं जानते हैं तो आज हम आपको इस पोस्ट में LAN नेटवर्क के बारे में बताएंगे। जैसा कि हम सब जानते है। पुराने समय में किसी भी जानकारियों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने के लिए संदेश का उपयोग किया जाता था। लेकिन वह संदेश पहुंचने में थोड़ा समय लगता था। जिससे वह संदेश समय पर नहीं पहुंच पाता था। उस समय के लोग जानकारियां पहुंचाने के लिए संदेश भेजने की तकनीक का उपयोग करते थे। ओर अपना संदेश सेनिको के हाथों या अपने किसी गुप्तचर के हाथों या फिर कबूतर का सहारा लेते थे। ठीक उसी प्रकार आज के समय में किसी भी जानकारी या इंफॉर्मेशन को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने के लिए एक माध्यम का उपयोग किया जाता है। जिसे नेटवर्क कहते हैं।

यह एक ऐसा नेटवर्क होता है जिसकी सहायता से आप अपनी जानकारियों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पल भर में पहुंचा सकते हैं। यह दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क होता है जिसे हम इंटरनेट के नाम से जानते हैं। जहां पर हम दिन रात डाटा का आदान-प्रदान करते रहते हैं। और इसी नेटवर्क का एक भाग होता है LAN (Local Area Network)। यह एक ऐसा नेटवर्क होता है जिसका उपयोग दो या दो से अधिक कंप्यूटर को एक साथ जोड़ने के लिए किया जाता है।
हम यहां पर आपको पहले नेटवर्क क्या है। इसकी जानकारी देंगे ताकि आपको LAN के बारे में अच्छे से समझ आ जाए। और आपको सही जानकारी प्राप्त हो। तो चलिए अब बिना देर किए शुरू करते हैं। नेटवर्क किसे कहते है।

नेटवर्क क्या है। (what is network in hindi) -

जब एक या एक से अधिक नेटवर्क को किसी माध्यम की सहायता से आपस में जोड़ा जाता है और जानकारियों का आदान प्रदान किया जाता है तो इसे नेटवर्क कहा जाता है। यह नेटवर्क तार सहित (wire) तथा तार रहित (wireless)  दोनों हो सकता है। wire medium में twisted pair cable, coaxial cable ओर fiber optics cable होते है। तथा  wireless medium में  Radio wave, Bluetooth, infrared तथा satellite में से कुछ भी हो सकते हैं।

नेटवर्क कंप्यूटर ,Server, Network device, Main frame का एक कलेक्शन होता है। जहां पर सैकड़ों कंप्यूटर आपस में जुड़े रहते हैं। और डेटा का आदान प्रदान करते रहते हैं। जब किसी नेटवर्क से डिवाइस को कनेक्ट किया जाता है तो इसे नेटवर्किंग करना कहते हैं। तथा जो कंप्यूटर नेटवर्क के लिए संसाधन को मुहैया कराता है उसे server कहा जाता है। नेटवर्क का सबसे अच्छा उदाहरण इंटरनेट है। जो दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क है। जहां पर लाखों लोग आपस में एक दूसरे से जुड़े होते हैं। और अपनी जानकारियों को साझा करते रहते हैं।

LAN क्या है।(what is LAN in hindi) -

Local Area Network kise kahte hai
 LAN का पूरा नाम लोकल एरिया नेटवर्क (Local Area Network) है। यह एक ऐसा नेटवर्क होता है जिसका उपयोग दो या दो से अधिक कंप्यूटर को जोड़ने के लिए किया जाता है।
Local Area Network kya hai
यह एक ऐसा नेटवर्क होता है जो आप को स्थानीय इलाकों में ज्यादा देखने को मिलता है। जैसे - स्कूल, कॉलेज, ऑफिस आदि में। यह एक सीमित भौगोलिक क्षेत्र जो सामान्यतः कुछ किलोमीटर का हो सकता है। यह नेटवर्क कामकाज की जगह पर बनाया जाता है। तथा इसे बनाने में ज्यादा Hardware की आवश्यकता नहीं होती है। इसमें एक मुख्य server यानी कंप्यूटर होता है। जहां पर संस्था से संबंधित डाटा को रखा जाता है। और इसे अन्य कंप्यूटर से जोड़ दिया जाता है। तथा यह संस्थान के अधिकार में होता है। मतलब एक इमारत या इमारतों के समूह मैं ऐसा कंप्यूटर नेटवर्क जिसमें दो या दो से अधिक कंप्यूटर आपस में एक दूसरे से जुड़े रहते हैं उसे लोकल एरिया नेटवर्क कहा जाता है। तथा यहां पर जुड़े हुए कंप्यूटर को वर्क स्टेशन कहा जाता है।

लोकल एरिया नेटवर्क की खासियत यह होती है कि इसकी स्पीड तेज होती है। LAN Networking मैं केबल, स्विच, राउटर और अन्य कंपोनेंट्स शामिल होते हैं। जो यूजर को सर्वर नेटवर्क के माध्यम से इंटरनल सर्वर,  वेबसाइट और LAN से कनेक्ट करने में सहायता करते हैं। कई Local Area Network स्टैंड अलोन हो सकते हैं। जो किसी अन्य नेटवर्क से कनेक्ट नहीं होते हैं। तथा वहीं कई local area network अन्य LAN या WAN से कनेक्ट हो सकते हैं। तो अब आप भी LAN नेटवर्क के बारे में जान गए हैं।

LAN नेटवर्क के कंपोनेंट्स (components of LAN Network in hindi) -


LAN (Local Area Network) किसी भी चीज के आदान-प्रदान के लिए कंप्यूटर को आपस में जोड़ता है। कंप्यूटर के निम्न कंपोनेंट्स होते हैं।

(●) नेटवर्क एडेप्टर - किसी भी कंप्यूटर को नेटवर्क से जुड़ने के लिए नेटवर्क एडेप्टर की आवश्यकता होती है। बिना नेटवर्क एडेप्टर के कोई भी कंप्यूटर का नेटवर्क से जुड़ना मुमकिन नहीं है। यह डाटा को इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल में परिवर्तित करता है।

(●) केबल कनेक्टर्स -  बायर्ड नेटवर्क में RJ45 सबसे ज्यादा प्रचलित कनेक्टर है। किसी भी नेटवर्किंग योग्यता वाले कंप्यूटर में RJ45 पार्ट होता है। इसे कभी-कभी नेटवर्क पोर्ट या इथरनेट पोर्ट कहते हैं।

(●) पावर सप्लाई - कोई सा भी हो उसमें wire तथा wireless दोनों ही प्रकार के नेटवर्क में पावर सप्लाई की आवश्यकता होती है। Wireless Network मैं करंट का उपयोग रेडियो तरंगों को उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। तथा केबल नेटवर्क डाटा को इलेक्ट्रॉनिक पल्स के रूप में डाटा भेजते हैं।

(●) नेटवर्क मीडियम - Wire Network के लिए केवल की आवश्यकता होती है। जैसे - twisted pair cable, coaxial cable ओर fiber optics cable आदि। तथा वायरलेस नेटवर्क में केबल की आवश्यकता नहीं होती है। इसमें रेडियो तरंगों की सहायता से डाटा को ट्रांसफर किया जाता है।

(●) नेटवर्क सॉफ्टवेयर - संचालित कंप्यूटर पर सॉफ्टवेयर डाटा को सेत्रमेंट्स मैं पैकेट करता है। तथा उस डाटा को पैकेट नाम की संरचना में रखता है। पैकेट के हेडर या पैकेट के स्त्रोत तथा गंतव्य का पता लिखा जाता है। तथा इन पैकेट्स को प्राप्त करने वाला कंप्यूटर इन्हें समझने योग्य डाटा में इंटरप्रेट करता है। तथा उपयुक्त एप्लीकेशन को भेजता है।

(●) स्विच - स्विच हब का एक विकल्प होता है। यह एक नई नेटवर्किंग तकनीक है जो नेटवर्क के प्रत्येक कंप्यूटर को एक विशिष्ट MAC एड्रेस प्रदान करता है। इसी वजह से आप प्रथम कंप्यूटर को सूचना लेन में स्विच का उपयोग कर सकते हैं।

(●) हब - हब लेन में कंप्यूटर्स से डाटा ट्रांसमिट करने के लिए एक केन्द्रीकृत बिंदु की तरह कार्य करता है। जब हब को एक कंप्यूटर की सहायता से डाटा भेजा जाता है तो वह डाटा नेटवर्क से जुड़े सभी कंप्यूटर को ट्रांसमिट हो जाता है। फिर चाहे वह किसी भी विशिष्ट कंप्यूटर के लिए हो।

(●) राउटर - स्विच तथा हब के विपरीत राउटर की सहायता से आप कई नेटवर्क को जोड़ सकते हैं। राउटर दूर इलाकों में स्थित कंप्यूटर को भी कनेक्ट कर सकता है। राउटर ज्यादा जटिल होते हैं। तथा विश्व भर में संदेश भेजने की योग्यता रखते हैं। बड़े-बड़े नेटवर्क लेन ट्रेफिक के लिए कभी-कभी राउटर का भी उपयोग करते हैं। तथा वॉयरलैस नेटवर्किंग डिवाइस को वायरलेस राउटर कहते हैं।

लेन नेटवर्क की विशेषता -

(●) यह एक कमरे या एक बिल्डिंग तक सीमित रहता है।
(●) इसमें डाटा सुरक्षित रहता है।
(●) इसमें डाटा को व्यवस्थित करना आसान होता है।
(●) इसमें बाहरी नेटवर्क को किराए पर नहीं लेना होता है। 
(●) इसमें डाटा को ट्रांसफर करने की स्पीड तेज होती है।

LAN के फायदे -

LAN के बहुत सारे फायदे होते हैं। जो हम यहां पर जानेंगे।
(●) LAN के माध्यम से यूज़र्स सभी प्रकार के साधनों का उपयोग कर सकते हैं।
(●) सॉफ्टवेयर, फाइले और हार्डवेयर को LAN से कनेक्ट होने वाले सभी डिवाइसों के साथ कनेक्ट करके शेयर किया जा सकता है।
(●) इसमें अतिरिक्त डिवाइस को खरीदने के लिए कम लागत लगती है।
(●) LAN किसी भी संस्थान में communication को आसान, सस्ता व तीव्र करने में सहायक होता है।
(●) एक मल्टीयूजर कंप्यूटर सिस्टम की तुलना में LAN अधिक उपयोगी होता है।
(●) सामान्यतः LAN की लागत कम होती है। वह इसका विस्तार व अपग्रेडेशन multi-user की तुलना में आसान होता है।
(●) LAN संस्थान की उत्पादकता बढ़ाने में भी सहायक होता है।

LAN के नुकसान -

(●)  LAN मैं अधिक मुख्य मेमोरी की आवश्यकता होती है। क्योंकि इसके प्रत्येक नोड में नेटवर्किंग सॉफ्टवेयर लोड होता है।
(●) LAN मैं स्थित किसी भी नोड या server को एक्सेस किया जा सकता है। इसलिए इसमें एक उपर्युक्त सिक्योरिटी सिस्टम का होना आवश्यक है।
(●) LAN का ऑपरेशन व रखरखाव अकेले कंप्यूटर की तुलना में काफी जटिल होता है।
(●) यूजर को LAN वातावरण में काम करने के लिए अतिरिक्त जानकारी की आवश्यकता होती है।
(●) नेटवर्किंग में सॉफ्टवेयर व हार्डवेयर काफी महंगा  हो सकता है। इसलिए यह कभी-कभी अलग-अलग कम्प्यूटरों व हार्डवेयरों की तुलना में महंगा साबित हो सकता है।

LAN Topologies in hindi -

एक कंप्यूटर नेटवर्क टोपोलॉजी एक LAN के कंपोनेंट के लिए अंतर्निहित communication स्ट्रक्चर है। जो लोग नेटवर्क टोपोलॉजी को डिजाइन करते हैं वह टोपोलॉजीज  पर विचार करते हैं। उन्हें समझने से नेटवर्क पर कुछ काम करने में अतिरिक्त अंतर्दृष्टि देता है। हालांकि कंप्यूटर नेटवर्क के एवरेज यूजर को उनके बारे में ज्यादा जानने की आवश्यकता होती है।

Conclusion -

आज इस पोस्ट में हमने आपको लोकल एरिया नेटवर्क (LAN - Local Area Network) किसे कहते है। तथा यह कितने प्रकार के होते  है। ओर इसके उपयोग के बारे में आपको पूरी जानकारी दी है। में आशा करता हु की आप लोगो को Local Area Network किसे कहते है। इसके बारे में अच्छे से समझ आया होगा। अगर यदि आपको अभी भी इस पोस्ट को लेकर कुछ डाउट्स है या आप हमारी इस पोस्ट से असंतुष्ट है। या फिर हमारी इस पोस्ट में कुछ सुधार करने की जरूरत है या इस पोस्ट से जुड़ा कोई भी सवाल आपके मन मे है तो आप हमे नीचे comments करके जरूर बताये।

ओर यदि आपको हमारी पोस्ट Local Area Network किसे कहते है। हिंदी में अच्छी लगी हो ओर आपको इससे कुछ सीखने का मिला हो तो हमे comments करके आप जरूर बताए। ओर इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ whatsapp group , facebook ओर अन्य social networks site's पर शेयर करे और इस जानकारी को अन्य लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे।

अभी के लिए बस इतना ही। हमारी पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद। आपका दिन शुभ हो।



No comments:

Post a Comment